देश

राजीव गांधी किसान न्याय योजना का आगाज 21 मई से

रायपुर. पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न राजीव गांधी के शहादत दिवस  21 मई के दिन छत्तीसगढ़ सरकार किसानों के लिए न्याय योजना शुरू कर रही है। दिल्ली से श्रीमती सोनिया गांधी और श्री राहुल गांधी वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए इस योजना के शुभारंभ कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और मंत्रीमण्डल के सदस्यगण मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में दोपहर 12 बजे स्वर्गीय श्री राजीव गांधी के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करेंगे. इसके पश्चात् किसानों को दी जाने वाली 5700 करोड़ रूपए की राशि में से प्रथम किश्त के रूप में 1500 करोड़ रूपए की राशि के कृषकों के खातों में आनलाइन अंतरण की जाएगी. कार्यक्रम में जिलों से सांसद, विधायक, अन्य जनप्रतिनिधि, किसान और विभिन्न योजनाओं के हितग्राही भी वीडियो कांफ्रेसिंग से जुड़ेंगे. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज यहां अपने निवास कार्यालय में योजना के शुभारंभ के लिए की जा रही तैयारियों की वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा भी की. 

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ देश में पहला ऐसा राज्य है जो किसानों को सीधे तौर पर बैंक खातों में राशि ट्रांसफर कर 5700 करोड़ रूपए की राहत प्रदान कर रहा है। कोरोना संकट के काल में किसानों को छत्तीसगढ़ सरकार राजीव गांधी किसान न्याय योजना के माध्यम से बड़ी राहत प्रदान करने जा रही है। इस योजना का उद्देश्य फसल उत्पादन को प्रोत्साहित करना और किसानों को उनकी उपज का सही दाम दिलाना है.

मुख्यमंत्री श्री बघेल कार्यक्रम के आरंभ में राजीव गांधी किसान न्याय योजना के संबंध में संक्षिप्त उद्बोधन देगें । कार्यक्रम में किसानों को दी जाने वाली 5700 करोड़ रूपए की राशि में से प्रथम किश्त के रूप में 1500 करोड़ रूपए की राशि के कृषकों के खातों में अंतरित की जाएगी। इस अवसर पर जिला मुख्यालयों में उपस्थित योजना के हितग्राहियों के साथ ही महिला स्व-सहायता समूहों के सदस्यों,  महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना और लघु वनोपज के हितग्राही तथा गन्ना और मक्का उत्पादक किसानों से वीडियो कांफ्रेसिंग से जरिए चर्चा भी की जाएगी. 

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति देने तथा कृषि के क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर सृजित करने लिए यह महत्वाकांक्षी योजना लागू की जा रही है।  इस योजना से न केवल प्रदेश में फसल उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा बल्कि किसानों को उनकी उपज का सही दाम भी मिलेगा।  इस योजना के तहत प्रदेश के 19 लाख किसानों को 5700 करोड़ रूपए की राशि चार किश्तों में सीधे उनके खातों में अंतरित की जाएगी।  यह योजना किसानों को खेती-किसानी के लिए प्रोत्साहित करने की देश में अपने तरह की एक बडी योजना है.

 राज्य सरकार इस योजना के जरिए किसानों को खेती किसानी के लिए प्रोत्साहित करने के लिए खरीफ 2019 से धान तथा मक्का लगाने वाले किसानों को सहकारी समिति के माध्यम से उपार्जित मात्रा के आधार पर अधिकतम 10 हजार रूपए प्रति एकड़ की दर से अनुपातिक रूप से आदान सहायता राशि दी जाएगी। इस योजना में धान फसल के लिए 18 लाख 34 हजार 834 किसानो को प्रथम किश्त के रूप में 1500 करोड़ रूपए की राशि प्रदान की जाएगी। योजना से प्रदेश के 9 लाख 53 हजार 706 सीमांत कृषक, 5 लाख 60 हजार 284 लघु कृषक और 3 लाख 20 हजार 844 बड़े किसान लाभान्वित होंगें.  

इसी तरह गन्ना फसल के लिए पेराई वर्ष 2019-20 में सहकारी कारखाना द्वारा क्रय किए गए गन्ना की मात्रा के आधार पर एफआरपी राशि 261 रूपए प्रति क्विंटल और प्रोत्साहन एवं आदान सहायता राशि 93.75 रूपए प्रति क्विंटल अर्थात अधिकतम 355 रूपए प्रति क्विंटल की दर से भुगतान किया जाएगा। इसके तहत प्रदेश के 34 हजार 637 किसानों को 73 करोड़ 55 लाख रूपए चार किश्तों में मिलेगा। जिसमें प्रथम किश्त 18.43 करोड़ रूपए की राशि 21 मई को अंतरित की जाएगी.

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा इसके साथ ही वर्ष 2018-19 में सहकारी शक्कर कारखानों के माध्यम से खरीदे गए गन्ना की मात्रा के आधार पर 50 रूपए प्रति क्विंटल की दर से प्रोत्साहन राशि (बकाया बोनस) भी प्रदान करने जा रही है। इसके तहत प्रदेश के 24 हजार 414 किसानों को 10 करोड़ 27 लाख रूपए राशि दी जाएगी। राज्य सरकार ने इस योजना के तहत खरीफ 2019 में सहकारी समिति, लैम्पस के माध्यम से उपार्जित मक्का फसल के किसानों को भी लाभ देने का निर्णय लिया है। मक्का फसल के आकड़े लिए जा रहे हंै, जिसके आधार पर आगामी किश्त में उनको भुगतान किया जाएगा. 

इस योजना में राज्य सरकार ने खरीफ 2020 से इसमें धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कोटकी तथा रबी में गन्ना फसल को शामिल किया है। सरकार ने यह भी कहा है कि अनुदान लेने वाला किसान यदि गत वर्ष धान की फसल लेता है और इस साल धान के स्थान पर योजना में शामिल अन्य फसल लेता हैं तो ऐसी स्थिति में उन्हें प्रति एकड़ अतिरिक्त सहायता दी जायेगी.

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा प्रदेश की अर्थव्यवस्था को गतिशील और मजबूत बनाने के लिए लॉकडाउन जैसे संकट के समय में किसानों को फसल बीमा और प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के तहत 900 करोड़ की राशि उनके खातों में अंतरित की गई है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा इसके पहले लगभग 18 लाख किसानों का 8800 करोड़ रूपए का कर्ज माफ किया गया है साथ ही कृषि भूमि अर्जन पर चार गुना मुआवजा, सिंचाई कर माफी जैसे कदम उठाकर किसानों को राहत पहुंचाई गई है. 

 

विशेष टिप्पणी

सरकार की आलोचना करने वाले को संघी कहना पूरी तरह से गलत

छत्तीसगढ़ में पत्रकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और सरकार के कामकाज की आलोचना करने वाले को संघी कहने पर बहस छिड़ गई है. पढ़िए सामाजिक कार्यकर्ता आलोक शुक्ला की यह टिप्पणी 

 

महान राष्ट्रीय गोदी पत्रकारों की भांति सत्ता भक्ति के लिए छत्तीसगढ़ में कई प्रतिलिपि तैयार हैं. यह सत्ता और पत्रकारिता किसी के लिए भी लाभकर नही होगा.

कुछ ऐसे लोग जो सत्ता भक्ति दिखाकर अपने आप को केंद्र में रखना चाहते हैं ( उम्मीद हैं सत्ता ने ऐसे लोगों को खड़ा नही किया हैं ) ऐसे गोदी पत्रकार गरीब वंचितों की आवाज उठाने वाले, सरकार की गलत नीतियों की आलोचना करने वाले पत्रकारों , मानवाधिकार व सामाजिक कार्यकर्ताओ को भाजपाई और संघी ठहराने कि लगातार कोशिश कर रहे हैं.

सरकार की गलत नीतियों की आलोचना न सिर्फ जवाबदेही तय करता हैं बल्कि व्यवस्था में सुधार के लिए भी यह आवश्यक हैं, और सवाल पूछना हमारा लोकतांत्रिक, संवैधानिक अधिकार भी हैं. यही विचार कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व का भी हैं और इसे बनाए रखने का संकल्प मुख्यमंत्री जी ने शपथ ग्रहण के तत्काल बाद जताया था, परन्तु आज प्रदेश में स्थितियां इसके बिलकुल विपरीत हैं.

आलोक शुक्ला के फेसबुक वॉल से

 

फिल्म

गुजर गया सत्यजीत रे की फिल्म में काम करने वाला छत्तीसगढ़ का बलराज साहनी

राजकुमार सोनी

जी... हां... भाइयों और बहनों...लीजिए पेश है आपके सामने भैयालाल हेड़ाऊ.

 मैं बात कर रहा हूं उस भैयालाल की जिन्होंने अपने गाने की प्रैक्टिस बिस्कुट के खाली पीपे और पानी के घड़े में घंटों मुंह डालकर की थीं. भैयालाल बेहद अच्छा गाते थे. वे काफी समय तक शारदा संगीत समिति, मिलन संगीत समिति और राजभारती आर्केस्ट्रा से जुड़े रहे. आर्केस्ट्रा का अमीन सयानी बना उद्घोषक जैसे ही उनके नाम की घोषणा करता था, दर्शक दीर्घा से तेज आवाजें, सीटियां और तालियों का शोर गूंजने लगता था. यह ताली ठीक वैसी ही होती थी जैसे स्काउट एंड गाइड में भाग लेने वाले बच्चे एक-दो-एक-दो यानी लयबद्ध तरीके से बजाते हैं.

भैयालाल जैसे ही गाना शुरू करते- याद किया दिल ने कहां हो तुम... प्यार से पुकार लो जहां हो तुम... एक सन्नाटा छा जाता था. गाने के खत्म होते ही भैयालाल... भैयालाल का शोर सुनाई देने लगता था. लोगों की आत्मा तब तक तृप्त नहीं होती थीं जब तक वे भैयालाल से अपनी पसंद का गाना नहीं सुन लेते थे. युवा दर्शकों की फरमाइश पर भैयालाल रंग बरसे भींगे चुनर वाली की शुरूआत करते तो भूचाल आ जाता था. आर्केस्ट्रा सुनने के लिए आए दर्शकों में से लंबी हाइट के कई अभिताभ बच्चन तुरन्त सामने आ जाते थे. बेलबॉटम पहना हुआ कोई अभिताभ... सोने की ताली में जेवना परोसा... जेवना परोसा कहता हुआ मंच की ओर चढ़ने लगता तो पीछे सैकड़ों अभिताभ... जेवना परोसा... हां जी... जेवना परोसा के कोरस में शामिल हो जाते थे. एक अभिताभ मंच के पास जाकर बाल झटकता तो दूसरा अभिताभ लड़कियों के पास जाकर चिल्लाता- होली है...।  कोई अभद्रता इसलिए भी नहीं होती थीं क्योंकि गीत की दूसरी पंक्ति को ध्यान से सुनने का वक्त आ जाता था

एसएमएस वाले इंडियन आइडिल और माइंड ब्लोइंग के जरिए दिमाग को दही बना देने वाली गदहपचीसी से हर रोज गुजरने वाले दर्शकों को लग सकता है कि एक आर्केस्ट्रा में गाने वाले शख्स में ऐसी क्या बात थीं जो उन्हें अलग करती थीं. आपको बताना चाहूंगा कि उनके पास रजा मुराद, अभिताभ बच्चन और हेमंत कुमार जैसी आवाज थीं. इसके अलावा वे इसलिए भी जुदा थे क्योंकि उन्हें अपनी मिट्टी से प्यार था. उनमें जितनी प्रतिभा थीं उसके मुकाबले चवन्नी छाप टैलेंट लेकर धन्ना सेठों की औलादें मुंबई और छत्तीसगढ़ की फिल्म इंडस्ट्री में कब्जा जमाए बैठी है. नवधनाढ्यों के कला प्रेम के चलते आज हालात यह है कि जिसकी जो समझ में आ रहा है वह परोस रहा है.

जैसे केआसिफ साहब की फिल्म मुगले-आजम को देखने के लिए लोग पंचायतों में योजना बनाते थे. आटा-दाल बांधकर घर से निकल पड़ते थे, ठीक वहीं स्थिति चंदैनी-गौंदा नाम के एक नाटक के प्रदर्शन के दौरान होती थीं. इस नाटक एक मुख्य पात्र भी थे- भैयालाल हेड़ाऊ.

राजनांदगांव के गोलबाजार इलाके में 8 अक्टूबर 1933 को जन्मे भैयालाल को चंदैनी गौंदा में काम करने का अवसर तब ही मिल गया था जब इसकी शुरूआत होने जा रही थीं. वर्ष 1971 में शुरू हुआ यह नाटक वर्ष 1991 के आसपास विसर्जित हुआ. इन वर्षों में इस नाटक के कई हजार शो हुए. एक समय ऐसा भी था जब गांव की चौपाल पर बिसाहू और समारू के बीच इस बात को लेकर झगड़ा हो जाया करता था कि उसने चंदैनी-गौंदा को कितनी बार देखा है. इस नाटक में लंबे समय तक काम करने वाले विजय वर्तमान जो हिंदी के अच्छे कहानीकार भी हैं, कहते हैं-  हर पात्र नाटक की जान था, लेकिन भैयालाल नाटक के दिल थे. नाटक की शुरूआत भी उनसे होती थीं और नाटक का अंत भी उनसे होता था.

वर्ष 1980 की बात है. जब प्रसिद्ध फिल्म निर्माता-निर्देशक सत्यजीत रे को मुंशी प्रेमचंद की कहानी सद्गगति पर फिल्म बनाने का आइडिया आया तो उन्होंने छत्तीसगढ़ का रुख किया. यहां आकर उन्होंने ढ़ेर सारे स्थानीय कलाकारों के बीच से भैयालाल हेड़ाऊ का चयन किया. ओमपुरी, स्मिता पाटिल और मोहन अगाशे के अभिनय से सजी इस फिल्म में भैयालाल ने एक आदिवासी की भूमिका निभाई थीं. उनके अभिनय को देखकर समानांतर सिनेमा में धूम मचाने वाले कलाकार हक्का-बक्का थे. तब उस फिल्म में काम करने वाले कई कलाकारों ने उनसे कहा था- कहां सड़ रहे हो भैयालाल जी... लेकिन... भैयालाल छत्तीसगढ़ छोड़कर नहीं गए. हिंदी सिनेमा के जानकारों का मानना है कि अगर भैयालाल मुंबई चले गए होते तो शायद काफी हद तक बलराज साहनी की कमी पूरी जाती.

छत्तीसगढ़ के इस बलराज साहनी ने अपने प्रदेश को इसलिए भी नहीं छोड़ा क्योंकि उसे यहां की मिट्टी से प्यार था. इसके अलावा गरीबी भी एक बड़ा कारण थीं. भैयालाल का बचपन बेहद गरीबी में बीता. उनकी मां उमादेवी अक्सर बीमार रहती थीं. मां की बीमारी के चलते उनके पिता की कमाई का एक बड़ा हिस्सा इलाज में ही खर्च हो जाता था. उनका दो मंजिला मकान पहले गिरवी रखा गया और फिर बाद में बिक गया. परिवार का भरण-पोषण करने के लिए भैयालाल को हाट-बाजारों में आलू-प्याज तक बेचना पड़ा. एक मित्र हरिप्रसाद ठाकुर के प्रयास से जब उन्हें शिक्षक की नौकरी मिली तब जाकर दो वक्त का भोजन नसीब हुआ. अन्यथा हालात यह थे कि कभी उन्हें सूखे चने से गुजारा करना पड़ता था कभी सीलन और बदबूदार जमीन पर पानी पीकर ही सोना पड़ता था. भैयालाल के सात बच्चों में से दो का देहांत हो चुका है. अपनी किताब बदनाम गली के लिए जब उन पर केंद्रित एक लेख के सिलसिले में मैंने जब उनसे मुलाकात की थी तब उन्होंने बताया था कि एक लड़का वेल्डिंग का काम जानता है और खाली बैठा है जबकि दूसरा लड़का टेडेसरा की एक प्राइवेट फैक्ट्री में कार्यरत है. यह बात बहुत कम लोग जानते हैं कि उनका गाना- आमार सोनार बंगला देश आकाशवाणी रायपुर से पहली बार तब बजा था जब बंगलादेश आजाद हुआ था.

यहां छत्तीसगढ़ में निर्मित होने वाली फिल्मों में भैयालाल को वह सम्मान नहीं मिल पाया जिसके वे हकदार थे. ऐसा इसलिए भी हुआ क्योंकि यहां एक-दो फिल्मों के चल निकलने के बाद ही निर्माता-निर्देशकों और कलाकारों का पारा सातवें आसमान पर आ गया. अधिकांश कलाकार सुपर स्टार हो गए तो निर्माता-निर्देशकों के बीच सुभाष घई और डेविड धवन की आत्मा घुस गई. अब भी कई कलाकार खुद ही अपने नाम के आगे-पीछे सुपर स्टार, लीजेंड स्टार, सुपर विलेन, सुपर शशिकला, सुपर ललिता पवार... अरूणा ईरानी, शो-मैन... राजकपूर, मनमोहन देसाई जैसे तमगे लगाकर घूम रहे हैं. मुंबईयां फिल्मों की एंड-बैंड-मोटर स्टैंड कर देने वाली कहानी को टिपटॉप कर दो कौड़ी की फिल्में बनाना प्रमुख शगल हो गया है.

छत्तीसगढ़ी फिल्मों में ज्यादा काम क्यों नहीं किया पूछने पर भैयालाल ने बताया था- किसी भी निर्माता- निर्देशक ने कभी कोई अच्छा रोल नहीं लिखा. अपनी मुफलिसी के चलते कुछ फिल्मों में काम भी किया तो वह मेहनताना नहीं मिला जो मिलना चाहिए था. उनकी एक आखिरी फिल्म मंदराजी थीं जिसमें उनकी भूमिका छोटी लेकिन दमदार थीं.

भैयालाल से एक रोज उनके पिता ने पूछा था- बताओ युद्ध के दृश्यों से सजी फिल्म सिकन्दर देखोगे या सूरदास. भैयालाल ने तुरन्त कहा- सूरदास देखूंगा क्योंकि मोहल्ले में भी एक सूरदास आता है जो अच्छा गाता है. भैयालाल जी अब इस दुनिया में नहीं है. बताते हैं कि अपने आखिरी दिनों में भी वे याद किया दिल ने कहां हो तुम... प्यार से पुकार लो जहां हो तुम... गुनगुना रहे थे. यहीं गुनगुनाते-गुनगुनाते हुए वे गुजर गए. उनका जाना अखर गया क्योंकि मैंने अपने बचपन में उन्हें बड़ी शालीनता से कठिन से कठिन गाने को धैर्य के साथ गाते हुए देखा और सुना था. उन्हें मेरी विनम्र श्रद्धाजंलि.

( उन पर लिखा गया यह आर्टिकल बदनाम गली पुस्तक में भी है. यहां थोड़े संशोधन के साथ. )